कौन हूं मैं

4 years ago Editor 0
शब्द अगर रख सको तो एक निशानी हूँ मैं खो दो तो एक कहानी हूँ मैं, जिसे रोक ना पाए ये सारी दुनियाँ वो एक बूँद आँख का पानी हूँ मैं।।   सभी को प्यार देने की आदत है मुझे, अपनी अलग पहचान बनाने की चाहत है मुझे, कोई कितना ही गहरा जख्म दे मुझे,