‘शद्ध देसी रोमांस’

5 years ago शालिनी कुमारी 0

enter बदलते समाज में शादी के बदलते आयाम, तलाक की बढ़ती संभावनायें और आधुनिक संस्कृति के बढ़ते प्रभाव के चलते आजकल के युवाओं का लिव इन रिलेशनशिप की तरफ झुकाव ज्यादा कर दिया है. इसमें जहां शादी जैसे सामाजिक रिश्ते का कोई बंधन नहीं है…

mujeres solteras para relacion seria

handla med binära optioner bluff चोपड़ा बहनों की दो फिल्में एक साथ रिलीज हुयीं हैं. प्रियंका चोपड़ा की रीमेक फिल्म ‘जंजीर’ और ‘इश्कजादे फेम परिणीति चोपड़ा की ‘शुद्ध देसी रोमांस.’ बॉक्स ऑफिस के कलेक्शन रिकार्ड से तो ‘शुद्ध देसी रोमांस’ पहले दिन ही काफी आगे निकल गयी लगती है. मनीष शर्मा के डायरेक्शन में बनी यह एक रोमांटिक कॉमेडी फिल्म है. जयपुर के देसी लोकेशन पर बनी इस फिल्म में ‘गुलाबी शहर’ की सिनेमाटिक लोकेशन को बड़े ही बेहतरीन ढंग से दर्शाया गया है.

go site

go to site ‘काई पो चे’ फिल्म से सुर्खियों में आये सुशांत सिंह राजपूत ने इस फिल्म में एक टूरिस्ट गाइड रघु की भूमिका निभायी है, जो पार्ट टाइम भाड़े के बाराती का भी काम करता है. इसी बीच कुछ ऐसी परिस्थियां बनती हैं कि वह फिल्म की दो नायिकाओं परिणीति चोपड़ा यानी गायत्री और वाणी कपूर यानी तारा के प्रेम त्रिकोण में फंस जाता है. सुशांत सिंह राजपूत का चरित्र बेबाक है, जो आजकल के बदलते हुए अर्बन इंडियन यूथ का चेहरा है. यह यूथ क्विक रोमांस में विश्वास करता है, इस युवा वर्ग को अपने लंबे-चौड़े अफेयर की लिस्ट से कोई शर्मिंदगी महसूस नहीं होती. इन युवाओं को समाज से हटकर अपनी पसंद की जिंदगी जीने में कोई हिचकिचाहट नहीं होती, न ही इस वर्ग को समाज की नजरों में नाजायज समझे जाने वाले बिना शादी के रिश्ते लिव इन रिलेशनशिप में रहने से कोई ऐतराज है. आर्थिक उदारीकरण के बाद बदलते भारत की तस्वीर ने लड़कियों को भी आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बना दिया है. आर्थिक आत्मनिर्भरता के साथ ही लड़कियों में एक बड़ा बदलाव यह आया है कि अब वे अपनी पसंद की जिंदगी जीने लगी हैं. इसी पृष्ठभूमि पर बनी ‘शुद्ध देसी रोमांस’ में गायत्री के किरदार में परिणीति चोपड़ा और तारा के किरदार में वाणी कपूर ने बदलते अर्बन इंडिया में आर्थिक आत्मनिर्भरता, आत्म विश्वास से भरी और अपनी जिंदगी अपनी शर्तों पर जीने वाली बेबाक लड़कियों के किरदार को बड़ी खूबसूरती से निभाया है. आजकल के बदलते समाज में शादी के बदलते आयाम, तलाक की बढ़ती संभावनायें और आधुनिक संस्कृति के बढ़ते प्रभाव के चलते आजकल के युवाओं का लिव इन रिलेशनशिप की तरफ झुकाव ज्यादा कर दिया है. इसमें जहां शादी जैसे सामाजिक रिश्ते का कोई बंधन नहीं है, तो बिना किसी जवाबदेही के कोई भी पार्टनर कभी भी रिश्ते को तोड़ सकता है.  रघु-गायत्री और तारा के प्रेम त्रिकोण पर बनी इस फिल्म में इसी प्यार, इकरार, तकरार और इंकार को खूबसूरती से दर्शाया गया है. इसमें कमिटमेंट फोबिया से ग्रसित ये किरदार अपनी शादी के मंडप से बारंबार भागते नजर आ रहे हैं. ‘शुद्ध देसी रोमांस’ में सुशांत सिंह राजपूत के 27 किसेस सीन हैं, इसलिए उन्हें बॉलीवुड का नया इमरान हाशमी भी कहा जाने लगा है, क्योंकि इससे पहले इमरान हाशमी के नाम ही ऐसे रिकॉर्ड दर्ज थे. इस रोमांटिक-कॉमेडी फिल्म के परिहास से भरे डायलॉग भी काफी प्रभावित करते हैं. लिव इन रिलेशनशिप जैसे नाजुक विषय पर बनी हुयी फिल्म के बावजूद सुशांत सिंह राजपूत और परिणीति चोपड़ा की फ्रेश जोड़ी ने इसे रोमांस का नया आयाम दिया है और अशिष्टता से दूर इसे परिवार के साथ बैठकर देखा जा सकता है. अपने जमाने में रोमांस के बादशाह कहे जाने वाले ऋषि कपूर ने जिस तरह अपने आपको बैंड बाजेवाले के चरित्र में ढाला है, वो साबित करता है कि वो किसी भी किरदार को बखूबी निभा सकते हैं. फिल्म का गीत ‘तेरे मेरे बीच मे…’ बहुत सुरीला है. अपने सारे विवादों के बावजूद भारतीय युवाओं के बीच यह फिल्म निश्चित रूप से प्रसिद्धि पा लेगी. वैसे भी यह फिल्म कम से कम वन टाइम वाच तो जरूर है. यह फिल्म इतना अहसास तो दिलाती ही है कि बॉलीवुड पटल पर सितारों के हुजूम में दो नये सितारे परिणीति और सुशांत सिंह राजपूत अपनी दमदार उपस्थित जरूर दर्ज करायेंगे.

piattaforme di trading binario