अपने बच्चों को रखा जानवरों की तरह

5 years ago Editor 0

http://visitsvartadalen.nu/?saxarokese=Sildenafil-Citrate-billig-online-bestellen&480=96 चार बच्चों के माता-पिता 66 वर्षीय वायने स्पर्लिंग और उनकी 35 वर्षीय पत्नी लॉरिंडा बेली पर अपने ही बच्चों के शोषण का आरोप है. ये चारों बच्चे डेनवर स्थित एक बेहद गंदे घर में मिले थे. इन बच्चों के चारों तरफ बिल्ली का मल फैला हुआ था और उन पर मक्खियाँ भिन-भिना रही थीं.

http://captainaugust.com/?koooas=come-guadagnare-online&f5f=c2

binära optioner nordea सभी चारों बच्चे कुपोषण के शिकार थे और साफ आवाज में बोल भी नहीं पा रहे थे. इस दंपति ने अदालत में हुई पहली पेशी के दौरान अपना पक्ष नहीं रखा है.

http://tjez.gob.mx/perdakosis/5313

faire des rencontres sans internet इस दंपति पर बच्चों के शोषण के आपराधिक कृत्य के कई मामले हैं. दो, चार, पाँच और छह वर्षीय इन बच्चों की जाँच करने वाले एक डाक्टर के अनुसार इन बच्चों को टायलेट का प्रयोग करना नहीं सिखाया गया था और उनके बोलने की क्षमता भी पूरी तरह से विकसित नहीं थीं.

click

come investire su opzioni अदालती दस्तावेजों के अनुसार इस मामले को लेकर पुलिस उस वक्त सतर्क हुई जब बेली अपने दो वर्षीय बेटे के सिर में लगी चोट का इलाज करवाने के लिए अस्पताल गई थीं. इस बच्चे की जाँच करने वाले डाक्टर ने बच्चे के शरीर से आ रही सिगरेट की गंध, उसके कई दिन से न नहाए होने और ठीक से बोल न पाने पर गौर किया और अधिकारियों को इसके बारे में सूचित किया.

binaire opties club डेनवर के सरकारी वकील ने बताया कि पुलिस जब इस दंपति के घर जाँच करने पहुँची तो उसे एक कमरे में बिस्तर के नीचे बिल्ली का मल मिला. पुलिस को घर से बिल्ली के मल की तीव्र दुर्गंध, पेशाब की गंध और मरे हुए जानवरों की दुर्गंध आ रही थी. हालाँकि पुलिस को किसी भी जानवर का मृतक शरीर वहां नहीं मिला.

enter पुलिस के अनुसार स्पर्लिंग ने जाँचकर्ताओं को बताया कि वो बेरोजगार हैं और इन बच्चों के प्राथमिक अभिभावक हैं और वो बड़े बेटे को घर पर ही शिक्षा दिलाने वाले थे. पुलिस के हलफनामे के अनुसार, स्पर्लिंग ने कहा कि बच्चों की अपनी ही एक भाषा है, वो आपस में घों-घों करके बात करते हैं लेकिन ये बच्चे उनसे और बेली से भी बोल लेते हैं.

piattaforme trading conto demo gratuito बेली एक अलग घर में रहती थीं. बेली ने पुलिस से कहा कि उन्हें नहीं लगता था कि उनका घर बच्चों के लिए असुरक्षित था. उन्होंने इस दावे को नकार दिया कि इन बच्चों का विकास ठीक तरह से नहीं हो रहा है. पुलिस ने बताया कि इससे पहले स्पर्लिंग और बेली दोनों ने 2009 में बच्चों के शोषण का अपराध स्वीकार किया था.