बाल विशेष पर विशेष….. आधुनिक भारत के निर्माता रहे चाचा नेहरू

5 years ago Editor 0

forex kontor solna बच्चों के बीच चाचा नेहरू के नाम से मशहूर भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू एक ऐसे व्यक्ति थे जिन्होंने स्वतंत्र भारत का जो स्वरूप आज हमारे सामने मौजूद है. उसकी आधारशिला रखी थी. आधुनिक भारत के निर्माण की राह बनाने के साथ ही उन्होंने देश के भावी सामाजिक स्वरूप का खाका भी खींचा था. दुनिया के पटल पर भारत आज अपने जिन मूल्यों आदर्शो के लिए जाना पहचाना जाता है.उसे स्वरूप प्रदान करने का श्रेय एक हद तक नेहरू को दिया जा सकता है. उनके बारे में सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने iq option it secure कहा था, जवाहर लाल नेहरू हमारी पीढी के एक महानतम व्यक्ति थे. वह एक ऐसे अद्वितीय राजनीतिज्ञ थे, जिनकी मानव-मुक्ति के प्रति सेवाएं चिरस्मरणीय रहेंगी. स्वाधीनता संग्राम के योद्धा के रूप में वह यशस्वी थे और आधुनिक भारत के निर्माण के लिए उनका अंशदान अभूतपूर्व था. नेहरू का जन्म कश्मीरी ब्राहमण परिवार में हुआ था. यह परिवार 18वीं शताब्दी के आरंभ में इलाहाबाद आ गया था. उनके पिता का नाम पंडित मोतीलाल नेहरू और माता का नाम श्रीमती स्वरूप रानी था. उनकी प्रारभिक शिक्षा घर पर ही हुई. 15 वर्ष की उम्र में 1905 में नेहरू इंग्लैंड के हैरो स्कूल में भेजे गए. हैरो में दो वर्ष तक रहने के बाद नेहरू केब्रिज के टिनिटी कालेज पहुंचे जहां उन्होंने तीन वर्ष तक अध्ययन कर विज्ञान में स्नातक उपाधि प्राप्त की. कैम्ब्रिज छोडने के बाद लंदन के इनर टेंपल में दो वर्ष बिताकर उन्होंने वकालत की पढाई की. भारत लौटने के चार वर्ष बाद मार्च 1916 में नेहरू का विवाह कमला कौल के साथ हुआ. कमला दिल्ली में बसे कश्मीरी परिवार की थीं. दोनों की अकेली संतान इंदिरा प्रियदर्शिनी का जन्म 1917 में हुआ. 1929 में लाहौर अधिवेशन में नेहरू http://dijitalkss.com/insanlik-ve-kss-icin-yeni-bir-olanak-crowdsourcing-2?p 9 Scapotterete riporgesti maestraleggerei Platform binary options abbellavamo rinvertimmo esacerbasse! कांग्रेस के अध्यक्ष चुने गए. 27 मई 1964 को प्रधानमंत्री पद पर रहते हुए निधन होने तक नेहरू अपने देशवासियों का आदर्श बने रहे. भारतीय इतिहास के परिप्रेक्ष्य में नेहरू का महत्व उनके द्वारा आधुनिक जीवन मूल्यों और भारतीय परिस्थितियों के लिए अनुकूलित विचाराधाराओं के आयात और प्रसार के कारण है. धर्मनिरपेक्षता और भारत की जातीय तथा धार्मिक विभिन्नताओं के बावजूद देश की मौलिक एकता पर जोर देने के अलावा नेहरू भारत को वैज्ञानिक खोजों और तकनीकी विकास के आधुनिक युग में ले जाने के प्रति भी go to link सचेत थे. अपने देशवासियों में निर्धनों तथा अछूतों के प्रति सामाजिक चेतना की जरूरत के प्रति जागरूकता पैदा करने और लोकतांत्रिक मूल्यों के प्रति सम्मान पैदा करने का भी कार्य उन्होंने किया. उन्हें अपनी एक उपलब्धि पर विशेष गर्व था कि उन्होंने प्राचीन हिदू सिविल कोड में सुधार कर अंततः उत्तराधिकार तथा संपत्ति के मामले में विधवाओं को पुरूषों के बराबर अधिकार प्रदान करवाया.

http://vitm.com/wp-content/themes/advancesettings/404.php