आखिर! जहानागंज के साहब कब दर्ज करेंगे एफआईआर?

आजमगढ़। सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ या फिर भाजपा के स्थानीय नुमाइंदे चाहे जितना भी गला फाड़-फाड़ कर चिल्ला ले कि प्रदेष में कानून का राज है, लेकिन धरातलीय सच्चाई से जनता बखूबी वाकिफ है। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि यदि आपकी किसी से कोई बतकुच्चन या मारपीट हो जाये या फिर कोइ्र्र आपकी हत्या कर दे, तब भी सूबे की पुलिस मामले को ले देकर रफा-दफा करने के फिराक में महीनों आपको थाने का चक्कर लगवायेगी। ये बातें तनिक भी निराधार नहीं है।
ऐसा ही कुछ हाल जनपद आजमगढ़ के थाना जहानागंज का भी है। आजमगढ़ के इस थाने में एफआईआर दर्ज कराना बहुत मुष्किल काम है। बताते चले कि जहानागंज थाना के अन्तर्गत एक गांव धरमपुर है, जहां पिछले 29 मई को एक दबंग व आपराधिक प्रवृत्त के व्यक्ति ने आम तोड़ने को लेकर एक छोटे से झगड़े में अपने पड़ोसी पंकज पाण्डेय को मारकर मरणासन्न कर दिया। ऐसा वह पहली बार नहीं किया है, इसके पहले भी वह कइ्र्र बार अपने कमजोर पड़ोसियों की जबरदस्ती जमीन हड़पने के नियत से मारपीट कर चुका है। भुक्तभोगियों द्वारा उक्त घटना की लिखित तहरीर थानाध्यक्ष साहब को दी जा चुकी है। पंकज के पिता परमानंद पाण्डेय ने हमारे प्रतिनिधि को बताया कि साहब लेन-देन में बहुत विश्वास रखते हैं, और साहब का हाथ एकोरहा है। इसलिए वह हमारी एफआईआर दर्ज नहीं कर रहे हैं। चूंकि हमारा दबंग पड़ोसी गोलबंद व अपराधिक किस्म का है, जिससे हम लोग हमेषा भयभीत रहते है और किसी भी समय वह हमारे परिवार वालों की हत्या कारित कर सकता है। उससे हम लोगों को जान-माल का भय है। इसलिए थानाध्यक्ष महोदय से निवेदन है कि वह हमारी अर्जी पर दया करके कम से कम एफआईआर दर्ज कर ले।
थानाध्यक्ष जहानागंज की कार्यशैली वास्तव में संदिग्ध प्रतीत होती है। क्योंकि सूबे की सरकार और पुलिस विभाग के उच्चाधिकारियों का स्पष्ट आदेश है कि फरियादियों की फरियाद पर तत्काल एफआईआर दर्ज करके गुण्डों, बदमाषों व अपराधियों पर कड़ी कार्यवाही की जाय। लेकिन जहानागंज थाने की कार्यषैली आम जनता को राहत नहीं पहुँचा रही है। ऐसे में पुलिस विभाग के एसपी और डीआईजी अपने इस थानाध्यक्ष की कार्यषैली को संज्ञान में लेते हुए पीड़ित पक्षकारों को न्याय दिलाने की पहल करें। ताकि कम से कम प्रदेष सरकार की नीतियों की रक्षा हो सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Top
ब्रेकिंग
सामने आया मेडिकल कॉलेज आज़मगढ़ के प्रिंसिपल का असली चेहरामज़दूरों की आठ घंटे काम की मांग ने पूंजीवाद को हिला दिया था…जनहित इंडिया ट्रस्ट लेगा अन्य राज्यों से पैदल पलायन किये गरीब मज़दूरों की सुधिआज़मगढ़ में केवाईसी जमा करने के लिए उमड़ी हजारों की भीड़मण्डलायुक्त ने अन्य राज्यों व जनपदों से आने वाले छात्रों एवं प्रवासी मजदूरों को उपलब्ध सुविधाओं का लिया जायजाकैंसर पीड़ित सदाबहार अभिनेता ऋषि कपूर भी नहीं रहेंदुनिया को अलविदा कह गए ‘इरफान खान’प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन ने सरकार के आदेशों को कड़ाई से लागू करने का लिया निर्णयढैचा की बोवाई शुरू करें किसानयूपी के प्रवासी अपनी समस्या के लिए अपने राज्यों के प्रभारी अधिकारियों से कर सकते हैं सम्पर्क