विशेष

जन संसद, जंगे आजादी और चम्बल

6 months ago बी. के. पाण्डेय 0
1857 में जब सारा देश ब्रितानिया हुकूमत के अत्याचारों से सुलग उठा था, तब 25 मई 1857 को इसी ‘पचनद घाट’ पर चम्बल के तमाम क्रन्तिकारी इकट्ठा हुए थे और यहीं से उन्होंने ब्रिटिश साम्राज्य को नेस्तनाबूंद करने की कसमें खाईं और कूद पड़े थे 1857 के महासमर में …   प्रथम स्वतंत्रता संग्राम (1857)