कला-संस्कृति

‘अंकुर’ के निर्देशन में सूत्रधार की शानदार प्रस्तुति हंसा जाई अकेला और कहानी के लिए स्त्रर पात्र चाहिए

7 months ago Editor 0
~ राजेश्वरी ‘रोली’ आजमगढ़ में शारदा सिनेमा हाल में ‘मार्कण्डेय जी’ की कहानियों पर ‘सूत्रधार’, नाट्य प्रस्तुति का बेहतरीन आयोजन किया। परिकल्पना और निर्देशन कहानियों की नाट्य प्रस्तुति के लिए विख्यात रंग निर्देशक, देवेन्द्र राज अंकुर ने किया। उन्होंने ‘मार्कण्डेय जी’ की दो बहुचर्चित कहानी- ‘हंसा जाई अकेला’ तथा ‘कहानी के लिए स्त्री पात्र चाहिए’